Gujarat Assembly Monsoon Session: तेल की कीमतों और लंपी वायरस को लेकर सदन में हंगामा, 10 विधायक निलंबित

Jagran | 3 days ago | 22-09-2022 | 04:08 am

Gujarat Assembly Monsoon Session: तेल की कीमतों और लंपी वायरस को लेकर सदन में हंगामा, 10 विधायक निलंबित

अहमदाबाद, जागरण संवाददाता। Gujarat Assembly Monsoon Session। गुजरात विधानसभा चुनाव 2022 से पहले 14वीं विधानसभा का आखिरी दो दिवसीय सत्र बुलाया गया है। गुजरात विधानसभा मानसून सत्र के दूसरे और आखिरी दिन भी विपक्ष ने सदन में लंपी वायरस को लेकर विपक्ष ने हंगामा किया। कांग्रेस ने जाति आधारित जनगणना और ओबीसी के लिए 27 फीसदी आरक्षण के मुद्दे पर सदन में हंगामा किया। इसके विरोध में कांग्रेस विधायक ने सदन से वाकआउट किया। जिग्नेश मेवाणी समेत 10 विधायकों को सस्पेंड कर दिया गया है।Gujarat: आदिवासी छात्राओं के नहाते समय बनाए वीडियो, रसोइए पर आरोप यह भी पढ़ें कांग्रेस ने जाति आधारित जनगणना और ओबीसी के लिए 27 फीसदी आरक्षण के मुद्दे पर सदन में हंगामा किया। इसके विरोध में कांग्रेस विधायक ने सदन से वाकआउट किया। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि मौजूदा भाजपा सरकार ने राज्य से ओबीसी आरक्षण को हटा दिया है। ओबीसी आरक्षण पर चर्चा को सरकार तैयार इसलिए आज उन्होंने सदन में चर्चा की मांग की जहां सत्तारूढ़ दल ने चर्चा करने से इनकार करते हुए सदन से वाकआउट कर दिया।विधायक अमित चावड़ा ने इसे लेकर कहा कि प्रदेश में 52 फीसदी आबादी ओबीसी है। हमारी मांग है कि सरकार निष्पक्ष जनगणना करे। राज्य सरकार ने हमेशा ओबीसी जाति के साथ अन्याय किया है। सरकार ने स्थानीय स्वराज के संगठन से 10 प्रतिशत आरक्षण भी हटा दिया है। इसके अलावा राज्य सरकार द्वारा आवंटित बजट में ओबीसी को भी अन्याय का सामना करना पड़ रहा है। सरकार जनसंख्या के आधार पर बजट आवंटित नहीं करती है।गुजरात विधानसभा मानसून सत्र: पहले दिन 15 कांग्रेस विधायक एक दिन के लिए सस्पेंड, सरकार के खिलाफ की थी नारेबाजी यह भी पढ़ें राज्य में 52 प्रतिशत बक्षीपंच आबादी में 7 प्रतिशत दलित आबादी, 14 प्रतिशत आदिवासी आबादी, 9 प्रतिशत अल्पसंख्यक आबादी है। कांग्रेस का आरोप है कि भले ही सभी जाति निगम हैं, लेकिन उन्हें बहुत कम सहायता राशि आवंटित की जाती है। बक्षीपंच में राज्य की 146 जातियां शामिल हैं। लेकिन राज्य सरकार आरक्षण देने में भेदभाव दिखा रही है।कांग्रेस ने जाति आधारित जनगणना की मांग करते हुए कहा कि राज्य में कलेक्टर, डीडीओ फर्जी जनगणना के आंकड़े पेश कर रहे हैं। राज्य में ओबीसी को 27 प्रतिशत आरक्षण मिलना चाहिए। स्थानीय स्वराज में भी यह मांग की गई थी कि ओबीसी को 27 प्रतिशत आरक्षण मिले। वहीं, राज्य सरकार ने ओबीसी आरक्षण को लेकर कोई फैसला नहीं लिया तो निकट भविष्य में कांग्रेस रोड पर विरोध प्रदर्शन करने की धमकी दी है।Gujarat Assembly Session आज से; दो दिवसीय सत्र में इन मुद्दों पर विपक्ष कर रही भाजपा को घेरने की तैयारी यह भी पढ़ें विधानसभा के आखिरी सत्र का आखिरी दिन भी हंगामे से भरा रहा। सत्र शुरू होने के बाद, कांग्रेस ने लंपी वायरस मुद्दे पर विस्तार से चर्चा करने के लिए समय मांगा, लेकिन समय आवंटित नहीं होने पर कांग्रेस विधायकों ने हंगामा किया। कांग्रेस विधायक वेल की ओर आए और नारेबाजी की।विधायक परेश धनानी ने विधानसभा भवन में तेल को लेकर चर्चा की। जिसमें विधायक ने आरोप लगाया कि सरकार तेल की कीमतों को नियंत्रित करने में विफल रही है। जिस तरह से तेल की कीमतें बढ़ रही हैं, उससे गरीब लोगों की परेशानी बढ़ गई है। महंगाई के कारण लोगों को परेशानी होती है। विधायक ने तेल का भाव भी पेश किया। लोगों पर तेल या पानी में खाना पकाने का भी आरोप लगाया गया।गुजरात में चुनाव प्रचार की शुरुआत करेंगे दिल्ली के उपमुख्यमंत्री सिसोदिया, परिवर्तन यात्रा में भी लेंगे भाग यह भी पढ़ें कांग्रेस विधायक परेश धनानी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए खाद्य नागरिक आपूर्ति विभाग मंत्री नरेश पटेल ने तेल की कीमत के संबंध में विवरण प्रस्तुत किया। इसके अलावा रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध के कारण पाम तेल का आयात बंद कर दिया गया और भारतीय बाजारों पर असर भी पेश किया गया। मंत्री ने सदन में विवरण भी प्रस्तुत किया कि मूंगफली सरकार द्वारा खरीदी जाती है और एक निश्चित मूल्य पर बेची जाती है।Arvind Kejriwal Gujarat Visit: गुजरात में AAP की सरकार बनने पर पुरानी पेंशन योजना लागू करेंगेः अरविंद केजरीवाल यह भी पढ़ें उधर, कांग्रेस सदस्य पूंजाभाई वामसा ने लंपी वायरस को लेकर सदन में प्रेजेंटेशन दिया। आरोप लगाया कि सरकार वायरस पर कार्रवाई करने में विफल रही है। हालांकि, कृषि मंत्री ने लंपी वायरस से गायों के इलाज के लिए उठाए गए कदमों के बारे में विस्तार से बताया। कृषि मंत्री ने प्रदेश में लंपी वायरस वेक्सिन मेडिकल टीम, एडवांस प्लानिंग की जानकारी प्रस्तुत की।विधानसभा सत्र के पहले दिन कल कांग्रेस ने सदन में हंगामा किया। राज्य में चल रहे विभिन्न आंदोलनों में कांग्रेस ने हंगामा किया है। 12 विधायकों को निलंबित कर दिया गया और कांग्रेस ने वाकआउट कर दिया।

Google Follow Image