Gujarat Hindi News - गुजरात ताज़ा खबर और ब्रेकिंग न्यूज़

युवक पर आया महिला का दिल तो पति की करा दी हत्या, CCTV फुटेज से हुआ खुलासा
News18 | 8 minutes ago | 06-07-2022 | 04:00 pm
News18
8 minutes ago | 06-07-2022 | 04:00 pm

अहमदाबाद. गुजरात के अहमदाबाद पुलिस की अपराध शाखा (डीसीबी) ने एक युवक की हत्या के मामले में सोमवार को उसकी पत्नी और पत्नी के दोस्त को गिरफ्तार कर लिया. दोनों ने कॉन्ट्रैक्ट किलिंग के जरिये युवक की हत्या करा दी और इस पूरी वारदात को सड़क हादसे का रूप दे दिया. पुलिस के अनुसार वस्त्रल में गैलेक्सी कोरल सोसाइटी निवासी पीड़ित शैलेश प्रजापति (43) की 24 जून की सुबह करीब 6 बजे मॉर्निंग वॉक कर रहे थे. इसी दौरान एक तेज रफ्तार सफेद पिकअप ट्रक ने उन्हें वस्त्राल में आरएएफ कैंप के पास पीछे से टक्कर मार दी. आकस्मिक मौत के दो हफ्ते बाद डीसीबी की टीम ने शैलेश की हत्या के आरोप में मृतक प्रजापति की पत्नी शारदा प्रजापति उर्फ ​​स्वाति (40) और वस्त्राल निवासी स्वाति के दोस्त नितिन प्रजापति (46) को गिरफ्तार किया. पुलिस के मुताबिक शारदा और नितिन ने शैलेश की हत्या के लिए गोमतीपुर निवासी यासीन उर्फ ​​कनियो नाम के शख्स को सड़क दुर्घटना का नाटक कर 10 लाख रुपये दिए थे.अहमदाबाद डीसीबी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया “पीड़ित की मौत के बाद, अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ आई ट्रैफिक पुलिस स्टेशन में लापरवाही (आईपीसी 304 ए) के कारण मौत के लिए प्राथमिकी दर्ज की गई थी. हालांकि, सोशल मीडिया पर कुछ वीडियो सामने आए, जिसमें पिकअप ट्रक पीड़ित को टक्कर मारने के लिए संदिग्ध रूप से सड़क के किनारे की ओर जा रहा था, जिसके बाद डीसीबी को जांच दी गई. जांच से पता चला कि शारदा और नितिन पिछले ढाई साल से रिलेशनशिप में थे और वे शैलेश को एक बाधा मानते थे”.अधिकारी ने बताया “शारदा ने यासीन नाम के एक व्यक्ति को 10 लाख रुपये दिया और उसे अपने पति की तस्वीरें दीं। उसने यासीन को शैलेश के निर्धारित मॉर्निंग वॉक के बारे में भी बताया और योजना के अनुसार 24 जून की सुबह यासीन ने कथित तौर पर शैलेश के ऊपर एक पिकअप ट्रक चला दिया और भाग गया. हम यासीन की तलाश कर रहे हैं और उसके साथ दो और आरोपी भी शामिल हो सकते हैं. अब तक, शारदा और नितिन पर हत्या का मामला दर्ज किया गया है और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है”.ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |Tags: Ahmedabad, Gujarat

युवक पर आया महिला का दिल तो पति की करा दी हत्या, CCTV फुटेज से हुआ खुलासा
कोरोना ने छीन लिया था जवान बेटा, 60 की उम्र में घर में यूं फिर गूंजी किलकारी
Aajtak | 21 hours ago | 05-07-2022 | 06:55 pm
Aajtak
21 hours ago | 05-07-2022 | 06:55 pm

गुजरात के गांधीनगर में 60 वर्षीय बुजुर्ग दंपति ने आईवीएफ (IVF) ट्रीटमेंट से बच्चे को जन्म दिया है. कोरोना की दूसरी लहर में गांधीनगर की भगोरा दंपति ने अपने 26 साल के बेटे को गंवा दिया था. माता-पिता उसकी शादी के लिए लड़की ढूंढ रहे थे, लेकिन जवान बेटे की असमय मौत ने पूरे परिवार को झकझोड़ दिया था. माता-पिता को इस उम्र में जीने का सहारा चाहिए था. ऐसे में दोनों बेटे की मौत के 6 महीने बाद डॉक्टर के पास IVF ट्रीटमेंट के लिए पहुंचे.गांधीनगर के डॉक्टर मेहुल दामानी का कहना है कि जब वो ट्रीटमेंट के लिए उनके पास पहुंचे थे, तब बुजुर्ग दंपति काफी हताश थे. जीवन जीने की उम्मीद ढूंढ रहे थे. वो आईवीएफ ट्रीटमेंट के लिए तैयार हुए तो, उनका इलाज शुरू किया गया. पहली बार में ही रेखा बेन गर्भवती रह गईं. मगनभाई भगोरा जब अपनी सेवा से रिटायर्ड हुए, ठीक उसके दूसरे दिन यानी 1 जुलाई को उनके घर में बेटा पैदा हुआ. मगन भाई मानते हैं कि उनके जीवन में एक बार फिर खुशियां लौट आई हैं. अब कुदरत के जरिए हमारा बेटा हमसे छीने जाने का दुख कम हो गया.बेटे की मौत के बाद परेशान मगन भाई और उनकी पत्नी रेखा बेन को उनके एक शिक्षक मित्र ने आईवीएफ ट्रीटमेंट के जरिए संतान पैदा करने की सलाह दी थी. इसके बाद अहमदाबाद में इलाज शुरू हुआ. डॉक्टरों का कहना है कि 60 की उम्र में अमूमन कुछ मुश्किलें जरूर होती हैं, लेकिन रेखा बेन को आईवीएफ से किसी भी तरह की कोई परेशानी नहीं हुई.डॉक्टर मेहुल दामानी का कहना है कि आईवीएफ कानून के तहत 60 की उम्र के बाद महिला आईवीएफ नहीं करवा सकती हैं. लेकिन इन्हें जब गर्भ रहा और अब बच्चा पैदा हुआ तो कानूनी बाधा इसमें नहीं आई. नवजात का वजन पौने तीन किलो था और वह पूरी तरह से स्वस्थ था. बच्चे की किलकारी भगोरा दंपति के जीवन में नया सवेरा लेकर आई है. उन्हें अपने खोए हुए बेटे को वापस पाने का अहसास हो रहा था. साथ ही वो दोबारा से बच्चे को पाने से काफी खुश हैं.

कोरोना ने छीन लिया था जवान बेटा, 60 की उम्र में घर में यूं फिर गूंजी किलकारी
प्रेमिका के पति को बनाया बिजनेस पार्टनर, फिर 10 लाख की सुपारी देकर मरवाया
Aajtak | 22 hours ago | 05-07-2022 | 05:55 pm
Aajtak
22 hours ago | 05-07-2022 | 05:55 pm

गुजरात के अहमदाबाद के वस्त्राल इलाके में 24 जून को हुए सड़क हादसे में एक शख्स की मौत को लेकर पुलिस ने चौंकाने वाला खुलासा किया है. पुलिस के मुताबिक, यह कोई सड़क हादसा नहीं था. बल्कि सोची समझी साजिश के तहत उसकी हत्या करवाई गई. 43 साल के शैलेश प्रजापति की पत्नी स्वाति ने प्रेमी नितिन प्रजापति के साथ मिलकर उसकी हत्या करवाई.दरअसल, स्वाति और नितिन के बीच अफेयर था. स्वाति पहले से शादीशुदा थी और शैलेश उसका पति था. स्वाति को पति शैलेश के कारण नितिन से मिलने में काफी दिक्कत होती थी. ऐसे में दोनों ने प्लान बनाया कि नितिन शैलेश को अपना बिजनेस पार्टनर बना लेगा ताकि वह आराम से कभी भी उनके घर आ-जा सके. जल्द ही शैलेश और नितिन बिजनेस पार्टनर्स बन गए. नितिन इसी बहाने उनके घर अक्सर आने लगा.पति को लगी पत्नी के अफेयर की भनकशैलेश को एक दिन दोनों के अफेयर की भनक लग गई. इसके कारण शैलेश और स्वाति के बीच झगड़े होने लगे. स्वाति नितिन से भी इसी वजह से मिल नहीं पा रही थी. नितिन और स्वाति ने प्लान बनाया कि क्यों ना शैलेश को रास्ते से हटा दिया जाए. फिर आराम से वे दोनों मिल पाएंगे. दोनों ने यासीन नामक सुपारी किलर से संपर्क किया. उससे 10 लाख रुपये में डील फाइनल की. 24 जून को शैलेश जब मॉर्निंग वॉक के लिए बाहर निकला तो पीछे से कार ने उसे टक्कर मार दी, जिससे उसकी रास्ते में मौत हो गई.CCTV फुटेज देखपुलिस को हुआ शकपुलिस ने मामला दर्ज करके जांच शुरू की तो उनके हाथ घटनास्थल के पास का एक सीसीटीवी फुटेज हाथ लगा. उसे जब ध्यान से देखा गया तो पुलिस को शक हुआ कि ये एक्सीडेंट नहीं बल्कि जानबूझकर शैलेश को टक्कर मारी गई थी. शैलेश शांति से सड़क किनारे चल रहा था. तभी पीछे से सफेद रंग के टैंपो ने जानबूझकर शैलेश की तरफ गाड़ी घुमाई. फिर उसे टक्कर मारकर फरार हो गया.पुलिस के सामने कबूला जुर्मपुलिस ने जब शैलेश की पत्नी स्वाति से सख्ती से पूछताछ की तो वह जल्दी ही टूट गई और गुनाह कबूल लिया. उसने पुलिस को पूरी बात बता दी. पुलिस ने स्वाति, नितिन और सुपारी किलर यासीन के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. स्वाति और नितिन को तो पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. वहीं, सुपारी किलर यासीन फरार है. उसकी तलाश जारी है.

प्रेमिका के पति को बनाया बिजनेस पार्टनर, फिर 10 लाख की सुपारी देकर मरवाया
कोरोना वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट को लेकर पीएम मोदी ने आलोचकों पर साधा निशाना
News18 | 1 day ago | 05-07-2022 | 04:00 pm
News18
1 day ago | 05-07-2022 | 04:00 pm

गांधीनगर. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने आलोचकों को आड़े हाथ लेते हुए सोमवार को कहा कि जब पूरी दुनिया इस बात की चर्चा कर रही थी कि भारत कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण के बाद अपने नागरिकों को तत्काल प्रमाणपत्र दे रहा है, तब कुछ लोग केवल ये बातें कर रहे थे कि प्रमाणपत्रों पर उनकी तस्वीर क्यों है. प्रधानमंत्री ने यहां ‘डिजिटल इंडिया वीक 2022’ का उद्घाटन करने के बाद अपने संबोधन में पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस नेता पी चिदंबरम का नाम लिये बिना उनकी भी आलोचना की जिन्होंने यूपीआई जैसे ऑनलाइन भुगतान के तरीकों का संसद में विरोध किया था.पीएम मोदी ने कहा, ‘डिजिटल इंडिया कार्यक्रम ने पिछले आठ साल में देश में जो क्षमता पैदा की है, उसने कोविड-19 महामारी के दौरान हमें बहुत मदद की. हम इसके कारण दुनिया के सबसे बड़े कोविड-19 टीकाकरण और राहत अभियान चलाने में सफल रहे.’ उन्होंने कहा कि महामारी के दौरान तकनीक ने समाज के वंचित तबकों को राहत पहुंचाई. उन्होंने कहा, “हमने महामारी के दौरान महिलाओं, किसानों, श्रमिकों के बैंक खातों में करोड़ों रुपये पहुंचाए. ‘एक राष्ट्र एक राशन कार्ड’ की मदद से हमने सुनिश्चित किया कि देश की 80 करोड़ आबादी को मुफ्त राशन बंटे.”‘भारत के टीकाकरण कार्यक्रम को दुनियाभर में प्रशंसा मिली’पीएम मोदी ने कहा कि भारत की डिजिटल तकनीक से संचालित कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम को दुनियाभर में प्रशंसा मिली. उन्होंने कहा, “इतनी बड़ी जनसंख्या को टीके की हर खुराक से बनने वाले रिकॉर्ड से दुनिया अभिभूत थी. अन्य देशों में लोगों को टीकों के प्रमाणपत्र मिलने में समस्या आई. लेकिन भारत में जब किसी व्यक्ति ने खुराक ली तो उसे उसके मोबाइल फोन पर तुरंत प्रमाणपत्र मिल गया.”Koo AppFew Glimpses from the inaugural ceremony of #DigitalIndiaWeek at #Gandhinagar #Gujarat @digitalindia @meity #NewIndia #IndiasTechade #DigitalIndia #DIW2022– Rajeev Chandrasekhar (@rajeev_chandrasekhar) 4 July 2022 ‘कुछ लोगों का ध्यान प्रमाणपत्रों पर मोदी की तस्वीर पर था’प्रधानमंत्री ने कहा, “दुनिया इस बात की चर्चा कर रही है कि हमने लोगों के टीका लगते ही उन्हें कोविड-19 टीकाकरण प्रमाणपत्र प्रदान करने में कैसे सफलता प्राप्त की, लेकिन यहां (भारत में) कुछ लोगों का ध्यान केवल इस बात पर केंद्रित था इन प्रमाणपत्रों पर मोदी की तस्वीर क्यों है.” कोविड-19 प्रमाणपत्रों पर प्रधानमंत्री की तस्वीर को लेकर कई लोगों ने भाजपा नीत राजग सरकार की आलोचना की. इस बारे में सोशल मीडिया पर मीम और चुटकुले भी देखे गये. केरल उच्च न्यायालय में तो एक याचिका दाखिल कर प्रमाणपत्रों में प्रधानमंत्री की तस्वीर होने पर सवाल उठाया गया. पीएम मोदी ने संभवत: पहली बार टीका प्रमाणपत्रों पर तस्वीर के विषय पर कुछ कहा है.यूपीआई को लेकर चिदंबरम को घेराउन्होंने यूनीफाइड पेमेंट इंटरफेस (यूपीआई) की लोकप्रियता का उल्लेख करते हुए कहा कि यह लोगों के बीच काफी सफल रहा. उन्होंने कहा, “पहले कुछ बड़े स्टोरों में कार्ड स्वैप करके डिजिटल भुगतान की सुविधा थी. लेकिन अब मुझे बताया गया कि बिहार में एक भिखारी ने भी अपना क्यूआर कोड लिया है और वह पैसे डिजिटल तरीके से लेता है.” प्रधानमंत्री ने डिजिटल भुगतान प्रणाली पर संसद में हुए उनकी सरकार के विरोध को याद करते हुए और परोक्ष रूप से चिदंबरम के संदर्भ में कहा, “जब हमने संसद में इस योजना को पेश किया तो एक पूर्व वित्त मंत्री ने कई मुद्दे उठा दिये. उन्होंने कहा कि लोगों के पास मोबाइल फोन नहीं हैं, वे इसका उपयोग कैसे करेंगे. वह बहुत विद्वान हैं. ज्यादा विद्वान लोगों के साथ यह दिक्कत होती है कि वे बहुत ज्यादा विश्लेषण करने लगते हैं.”ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |Tags: Congress, Gujarat, Narendra modi

कोरोना वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट को लेकर पीएम मोदी ने आलोचकों पर साधा निशाना
मॉनसून में आफत! दिल्ली से गुजरात तक कई राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट
Aajtak | 1 day ago | 05-07-2022 | 01:58 pm
Aajtak
1 day ago | 05-07-2022 | 01:58 pm

Weather Forecast, IMD Rainfall Alert, Mausam Updates: देशभर में मॉनसून की दस्तक हो गई है. पिछले महीने के आखिर में दिल्ली में भी मॉनसून की एंट्री हो गई, जिससे जो लोग बारिश का इंतजार कर रहे थे, उनको राहत मिली. मौसम विभाग की मानें तो आने वाले दिनों में मॉनसून की गति में और तेजी आने की संभावना है. दिल्ली में अगले 72 घंटे बारिश वाले हैं. साथ ही, गुजरात, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश समेत कई राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट है.दिल्ली में लगातार कई दिनों तक बारिश के आसारराष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में अगले कई दिनों तक बारिश के आसार हैं. आज का न्यूनतम तापमान 29 डिग्री और अधिकतम तापमान 36 डिग्री सेल्सियस रहने वाला है, जबकि बारिश भी होगी. छह जुलाई को भी बारिश और के आसार हैं. राजधानी में अगले कई दिनों तक बारिश का मौसम लगातार बना रहेगा. 72 घंटों तक मध्यम बारिश होगी और फिर हल्की बारिश की संभावना है.लखनऊ में क्या है बारिश का हाल?यूपी के कई जिलों में मॉनसून की बारिश हो रही है. हालांकि, राजधानी लखनऊ में अभी ज्यादा बारिश नहीं है. मौसम विभाग की मानें तो आज लखनऊ में बादल छाए रहेंगे. मंगलवार को हल्की बारिश होगी, जबकि फिर अगले तीन दिनों तक बादल छाए रहेंगे. इस दौरान बारिश की संभावना नहीं है. 10 और 11 जुलाई को आंधी तूफान के साथ लखनऊ में बारिश हो सकती है.गुजरात में 5 दिनों तक होगी भारी बारिशगुजरात में आने वाले पांच दिनों में मौसम विभाग की और से भारी बारिश की संभावना जताई गई है. गुजरात सरकार ने मौसम विभाग के पुर्वानुमान के बाद सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात में एनडीआरएफ की 6 टीमों को तैनात किया है. एनडीआरएफ के बटालियन के डिप्टी कमांडेंट अनुपम के मुताबिक, उनकी तीन टीमें आणंद, नवसारी और गीर सोमनाथ जिलों में बचाव कार्य में लगी हैं. जबकि छह अन्य टीमों को स्टैंड बाय पर रखा गया हैं. राजकोट में तीन, गांधीनगर में दो, सूरत और बनासकांठा में एका-एक टीमों को तैनात किया गया है. इन पांच दिनों में गुजरात में भारी से भारी बारिश की संभावना जताई है. राज्य के मौसम विभाग की डिरेक्टर मनोरमा मोहंती के मुताबिक, उत्तर गुजरात और सौराष्ट्र में भारी बारिश की संभावना है.MP: जमकर बरस रहा है मॉनसून, 15 जिलों में ऑरेंज अलर्टमध्य प्रदेश में मॉनसून के बादल जमकर बरस रहे हैं. कई शहरों में जोरदार बारिश के बाद निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को समस्याओं का सामना करना पड़ा है. इस बीच मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों के लिए 15 जिलों में भारी से अति भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी किया है. मौसम विभाग ने भारी बारिश से अति भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जिन 15 जिलों के लिए जारी किया है, उनमें बालाघाट, मण्डला, सतना, अनूपपुर, शहडोल, उमरिया, डिंडोरी, कटनी, जबलपुर, नरसिंहपुर, छिंदवाडा, सिवनी, सागर, दमोह, छतरपुर ज़िले शामिल हैं. इन ज़िलों में 64.5 से 204.5 मिलीमीटर बारिश का पूर्वानुमान जताया गया है. इसके अलावा भोपाल और नर्मदापुरम संभागों के जिलों के अलावा खण्डवा जिले में भारी बारिश की संभावना का येलो अलर्ट जारी किया गया है.मुंबई में भारी बारिश से जलजीवन अस्त-व्यस्तमुंबई और उसके आसपास के इलाकों में मंगलवार सुबह भारी बारिश हुई. भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने अगले 24 घंटों में मुंबई और उसके उपनगरों में मध्यम से भारी बारिश की भविष्यवाणी की है. अलग-अलग स्थानों पर बहुत भारी बारिश की संभावना है. अधिकारी ने बताया कि मुंबई में मंगलवार सुबह आठ बजे समाप्त 24 घंटे की अवधि में औसतन 95.81 मिमी बारिश हुई, जबकि इसी अवधि के दौरान पूर्वी और पश्चिमी उपनगरों में क्रमश: 115.09 मिमी और 116.73 मिमी बारिश दर्ज की गई है. IMD ने सोमवार को मुंबई और ठाणे के लिए 'येलो अलर्ट' जारी किया था, जिसमें अगले पांच दिनों में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश की भविष्यवाणी की गई थी.उत्तराखंड में भी अगले 4 दिनों तक भारी बारिशमौसम विभाग ने अगले चार दिनों तक उत्तराखंड में भारी बारिश की संभावना जताई है. सोमवार को IMD ने देहरादून, नैनीताल, बागेश्वर आदि जिलों के लिए भारी बारिश का अलर्ट जारी किया. मौसम विभाग के दफ्तर ने कहा, ''देहरादून, टिहरी, पौड़ी, नैनीताल, चम्पावत जिलों में 5, 6 और 7 जुलाई को भारी बारिश होने वाली है.'' उधर, भारी बारिश के चलते सोमवार को कई इलाकों में पेड़ गिर गए.(गोपी घांघर, रवीश पाल सिंह व पीटीआई एजेंसी के इनपुट सहित)

मॉनसून में आफत! दिल्ली से गुजरात तक कई राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट
  • मॉनसून से कहीं मिली राहत तो कहीं बारिश बनी आफत, गुजरात में भारी बरसात से बुरा हाल
  • Aajtak

    Gujarat Rainfall, Monsoon Update:मौसम विभाग की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, पूरे देश में मॉनसून एक्टिव हो गया है. मॉनसूनी बारिश कई राज्यों में राहत लेकर आई तो कई राज्यों में बारिश के चलते लोगों का आम जनजवीन अस्त-व्यस्त हो गया है. गुजरात के कई इलाकों में लगातार बारिश के चलते जगह-जगह भारी जलजमाव हो गया है.गुजरात के कई इलाकों में इतनी ज्यादा बारिश हुई है कि कई गांवों में पानी भरने से सड़के जलमग्न हो गई हैं. दक्षिण गुजरात के नवसारी और डांग जिले में लगातार बारिश हो रही है. तेज बारिश के चलते नवसारी इलाके के कुछ घरों मेंबरसाता कापानी भरने से लोगों को काफी दिक्कतों का समना करना पड़ा, कई जगहों पर सड़कें बंद कर दी गई हैं.वहीं, गुजरात के गणदेवी तहसील के खरसाड गांव में पंचायत द्वारा मॉनसून के पहले बारिश का पानी निकालने की व्यवस्था नहीं की गई,जिससे गांव में काफी पानी जमा हुआ है. बारिश के चलते एक तरफ नवसारी में लोगों को दिक्कत हुई तो वहीं, डांग जिले में लगातार हो रही बारिश के कारण प्रकृति निखर उठी है, वन क्षेत्रों में चारों और हरियाली से अदभुत सौन्दर्य देखने को मिल रहा है.गुजरात के आणंद के बोरसद में कल यानी 1 जुलाई को हुई 11 इंच बारिश के बाद एक शख़्स के डूबने की खबर मिली, जिसके बाद एनडीआरएफ की वडोदरा की बटालियन ने उसे ढूंढना शुरू किया. अब भी बोरसद तहसील के कुछ गांव में पानी भरा हुआ है, जिसके चलते लोगों के खाने के और पीने के पानी का दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.गुजरात के जूनागढ़ में भारी बारिश के चलते सुखी नदियां पानी से भर गई है. भीषण गर्मी और बारिश की देरी से चिंतित लोगों और किसानोंके लिए मॉनसून खुशियां लेकर आया है. शहरों में रास्तों पर पानी की नदियां बहने लगी हैं. जूनागढ़ में चार घंटे में हुई बारिश के आंकड़े देखें तो सबसे ज्यादा मनावदार में 103 मिमी, बंथली में 72 मिमी, मालिया में 52 मिमी जब की जूनागढ़ 50 मिमी और गिरनार पहाड़ी में 75 मिमी तक की बारिश हो चुकी है. मौसम विभाग ने अगले कुछ दिनों कर गुजरात में हल्की से मध्यम और कुछ स्थानों पर भारी बारिश होने की संभावना व्यक्त की है.(नवसारी से रौनक जानी का इनपुट)

गुजरात में फ्री बिजली के मुद्दे पर केजरीवाल का पूरा संबोधन सुनिए, छोटा हिस्सा शेयर कर हुई थी सीएम को ट्रोल करने की कोशिश
Jagran | 1 day ago | 05-07-2022 | 10:09 am
Jagran
1 day ago | 05-07-2022 | 10:09 am

अहमदाबाद, आनलाइन डेस्क।आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अहमदाबाद में बिजली के मुद्दे पर लोगों के सामने खुलकर बात रखी। मुख्यमंत्री के केजरीवाल के संबोधन का 52 सेकंड का वीडियो आम आदमी पार्टी ने अपने ट्विटर हैंडल से पोस्ट किया था। इसी वीडियो के छोटे हिस्से को भाजपा नेता विजय गोयल ने अपने ट्विटर हैंडल से पोस्ट कर गुजरात में फ्री बिजली के मुद्दे पर सीएम केजरीवाल को ट्रोल करने की कोशिश की। केजरीवाल का पूरा संबोधन सुनिएआम आदमी पार्टी के ट्विटर हैंडल से पोस्ट वीडियोGujarat का बड़ा नेता कह रहा था "केजरीवाल फ़्री क्यों देता है? जनता को Free बिजली नहीं चाहिए!"मंत्रियों को फ़्री बिजली तो जनता को क्यों नहीं?इनको डर लगता है- लोगों को Free बिजली मिलने लग गई तो इनके लूटने के लिए पैसे नहीं बचेंगे।-CM @ArvindKejriwal #VijliSamvadWithAK pic.twitter.com/eFqWBAl2LMअपने संबोधन में केजरीवाल ने आगे कहा कि मैं आपसे पूछता हूं कि फ्री बिजली चाहिए कि नहीं चाहिए? क्यों नहीं चाहिए भाई फ्री बिजली, अगर मिल सकती है तो मिलनी चाहिए। क्यों नहीं चाहिए? उन्होंने कहा कि उन्हें यह डर लगता है कि अगर उन्होंने लोगों को फ्री बिजली दे दी, या लोगों को फ्री बिजली मिलने लग गई, तो इनको लूटने के लिए पैसे नहीं बचेंगे। इनको पैसे लूटने हैं। केजरीवाल ने कहा कि कहा कि आज मैं मीडिया के माध्यम से कहना चाहता हूं कि अगर दिल्ली और पंजाब में बिजली फ्री हो सकती है तो गुजरात के लोगों को भी बिजली फ्री मिल सकती है। 24 घंटे फ्री बिजली देना एक "जादू" है, ये जादू सिर्फ मुझे आता है, भगवान ने ये विद्या केवल मुझे दी है। हम इमानदार लोग हैं। हम बिजली कंपनियों से पैसे नहीं खाते, हम जनता के हक में काम करते हैं। गुजरात में बिजली सस्ती हो सकती है। बिजली 24 घंटे मिल सकती है। बस आपको राजनीति बदलनी है।Gujarat: 20 साल बाद गोधरा नरसंहार मामले के आरोपी को उम्रकैद, 59 कारसेवकों की हुई थी मौत यह भी पढ़ें इससे पहले केजरीवाल के संबोधन के छोटे से हिस्से को भाजपा नेता विजय गोयल ने अपने ट्विटर हैंडल से पोस्ट कर कैप्शन दिया, जनता का करारा जवाब। 19 सेकंड के इस वीडियो में केजरीवाल लोगों से पूछते नजर आ रहे हैं कि आपको फ्री बिजली चाहिए कि या नहीं। इसपर लोग कहते हैं...नहीं। केजरीवाल आगे बोलते हैं, क्यों नहीं चाहिए फ्री बिजली। वीडियो केवल यहीं तक हैं।भाजपा नेता विजय गोयल की ओर से शेयर वीडियोजनता का करारा जवाब! pic.twitter.com/2xV1OhRrcLइससे पहले उत्तर गुजरात के मेहसाणा में मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा था कि गुजरात की सभी 182 सीटों पर आप ने तिरंगा यात्रा निकाली, गांव व शहर के लोग अब भाजपा और उसकी बहन कांग्रेस से तंग आ गए हैं। उनका दावा है कि लोगों ने आप नेताओं को बताया कि भाजपा के खिलाफ बोलो तो पार्टी के लोग धमकाते हैं। अब गुजरात के लोगों को डरने की जरूरत नहीं है, अगले छह माह में गुजरात में आप आने वाली है।

गुजरात में फ्री बिजली के मुद्दे पर केजरीवाल का पूरा संबोधन सुनिए, छोटा हिस्सा शेयर कर हुई थी सीएम को ट्रोल करने की कोशिश
Gujarat Assembly Election 2022: केंद्रीय नेतृत्व ने गुजरात कांग्रेस को दी सलाह, क्‍या खुद दिखा सकेंगे संयम ? जानें क्‍या है पूरा मामला
Jagran | 1 day ago | 05-07-2022 | 08:00 am
Jagran
1 day ago | 05-07-2022 | 08:00 am

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। पिछले अनुभवों से सतर्क कांग्रेस ने गुजरात प्रदेश इकाई को यह निर्देश तो दे दिया है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर व्यक्तिगत टिप्पणी न करें, लेकिन इसका पालन खुद केंद्रीय नेतृत्व के लिए चुनौती हो सकता है। दरअसल, केंद्रीय नेतृत्व की ओर से अक्सर सीधे प्रधानमंत्री को ही निशाना बनाया जाता है और सोशल मीडिया के युग में पार्टी कार्यकर्ताओं के लिए वही मंत्र बन जाता है।चुनाव में पीएम मोदी पर व्यक्तिगत टिप्पणी से बचने का निर्देश वैसे भी केवल गुजरात ही नहीं बल्कि पूरे देश में प्रधानमंत्री मोदी पर व्यक्तिगत निशाना राजनीतिक रूप से लगातार घातक साबित हुआ है। बताया जाता है कि सोमवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में कांग्रेस टास्क फोर्स ने महसूस किया था कि चुनाव को मोदी पर केंद्रित करना राजनीतिक रूप से नुकसानदेह होता है, लिहाजा गुजरात में केवल राज्य सरकार की असफलताओं पर चुनाव लड़ा जाए।डिजिटल इंडिया वीक-2022 में पीएम मोदी के भाषण की खास बातें, जानें कैसे तकनीक के प्रयोग से बदल गया भारत यह भी पढ़ें गौरतलब है कि यही फैसला 2017 चुनाव में लिया गया था और 2019 के चुनाव से पहले भी यही रणनीति तय की गई थी लेकिन चाहे गुजरात चुनाव हो या किसी दूसरे राज्य का चुनाव कांग्रेस के केंद्रीय नेतृत्व की ओर से ही व्यक्तिगत टिप्पणियां की गई और उसका उल्टा असर भी दिखा। 2017 में कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने प्रधानमंत्री को 'नीच' कह दिया था।अभी हाल की बात हो तो अग्निपथ योजना का विरोध करते हुए कांग्रेस नेता सुबोधकांत सहाय ने हिटलर की मौत की याद दिलाई तो कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी समेत कई नेताओं की ओर से अक्सर प्रधानमंत्री मोदी के लिए तानाशाह, अहंकारी जैसे शब्द उपयोग किए जा रहे हैं।ध्यान रहे कि गुजरात में सबसे पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की ओर से मोदी को मौत का सौदागर कहा गया था और बाद में इसमें तेजी आती गई जिसमें कभी प्रियंका गांधी ने मोदी की तुलना दुर्योधन से की तो कभी किसी नेता ने हिंदू आतंकवादी कहा।प्रधानमंत्री मोदी गुजरात सहित पूरे देश में भाजपा के स्टार प्रचारक होते हैं। चुनावी अभियान की सफलता की जिम्मेदारी उनके ही कंधों पर होती है। ऐसे में कांग्रेस के लिए चाहे अनचाहे उन्हें केंद्र में लाना ही होता है।गुजरात कांग्रेस को तो केंद्र से सलाह दे दी गई है लेकिन संयम केंद्रीय नेताओं को ज्यादा दिखाना पड़ सकता है।इस साल के अंत में राज्य में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले सोमवार को नई दिल्ली में गुजरात कांग्रेस के नेताओं और पार्टी के वरिष्ठ अधिकारियों के बीच एक बैठक हुई। पार्टी अधिकारियों के अनुसार, गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष जगदीश ठाकोर, गुजरात प्रभारी रघु शर्मा, विपक्ष के नेता सुखराम राठवा, वरिष्ठ नेता अर्जुन मोढवाडिया, दीपक बाबरिया और प्रवक्ता मनीष दोशी सहित राज्य के वरिष्ठ पार्टी नेताओं को नई दिल्ली में पार्टी मुख्यालय बुलाया गया था।

Gujarat Assembly Election 2022: केंद्रीय नेतृत्व ने गुजरात कांग्रेस को दी सलाह, क्‍या खुद दिखा सकेंगे संयम ? जानें क्‍या है पूरा मामला