Gujarat Hindi News - गुजरात ताज़ा खबर और ब्रेकिंग न्यूज़

बीएपीएस स्‍वामी नारायण संस्‍था- अध्‍यात्‍म से मैनेजमेंट लीडर बनते बच्‍चे
News18 | 1 hour ago | 27-11-2022 | 07:00 am
News18
1 hour ago | 27-11-2022 | 07:00 am

नई दिल्‍ली. अहमदाबाद में अगले माह से शुरू होने वाले प्रमुख स्वामी महाराज जन्‍म शताब्‍दी समारोह में बच्‍चे आध्‍यात्‍म के साथ मैनेजमेंट के गुर सीखेंगे और मैनेजमेंट लीडर बनेंगे. आयोजन स्‍थल प्रमुख स्वामी महाराज नगर में बच्‍चों द्वारा बच्‍चों के लिए बाल नगरी निर्माण किया गया है. जहां पर देशभर से आने वाले बच्‍चे अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन करेंगे.प्रमुख स्वामी महाराज ने बच्‍चों को सामाजिक-आध्यात्मिक गतिविधियों के रूप में समाज को अमूल्‍य उपहार दिया है. 1954 में योगीजी महाराज ने बीएपीएस स्‍वामीनारायण संस्‍था में बच्‍चों की गतिविधियों की स्‍थापना की. जिसे प्रमुख स्वामी जी महाराज ने निरंतर प्रयासों से आगे बढ़ाया. प्रमुख स्वामी महाराज ने बच्चों के लिए समय निर्धारित किया. उन्होंने बच्‍चों को जीवन मूल्‍यों के साथ जीवन जीने और अपने माता-पिता का सम्मान करने के लिए प्रेरित किया.महत्‍वपूर्ण बात यह है कि 1992 और 1995 में, बीएपीएस स्वामीनारायण संस्था ने बड़े उत्सवों में बच्‍चों को अपनी क्षमताओं को प्रदर्शन करने का मौका दिया. इन्‍हीं बच्‍चों ने बाल नगरी तैयार की है.देशभर से प्रति सप्‍ताह 2000 बच्‍चों ने यहां आकर सेवा कार्य करते हुए बालनगरी का निर्माण किया है. संभावना है कि शताब्‍दी समारोह के दौरान 5 से 6 लाख कुल बच्‍चे आएंगे. यहां पर बच्‍चों द्वारा बच्‍चों और पैरेंट्स को पैरेंटिंग टिप्‍स दिए जाएंगे. यहां सिखाया जाएगा कि बच्‍चे घर पर कैसा व्‍यवहार करें, पैरेंट बच्‍चों को कैसे संस्‍कार दें.बाल नगरी पर एक नजर प्रमुख स्‍वामीजी महाराज नगर में 17 एकड़ ‘बीएपीएस स्वामीनारायण संस्था बाल नगरी’ विकसित की गयी है. स्‍वामी जी का संदेश बच्‍चों द्वारा यहां आने वाले बच्चों, युवाओं और श्रद्धालुओं को देने के लिए बाल नगरी विकसित की गयी है, जिससे उनका जीवन बेहतर बनाया जा सके. बाल नगरी निर्माण की रूप रेखा दो साल पूर्व शुरू हो गयी थी. प्रमुख स्वामी नगर में बाल नगरी का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है. यहां इसका निर्माण जुलाई 2022 से चल रहा है.बाल नगरी की खासियतबाल स्नेही उद्यान- बाल नगरी के दो मुख्य प्रवेश द्वारों पर ‘बाल स्नेही’ उद्यान का निर्माण किया है. प्रमुख स्वामीजी महाराज ने हमेशा बच्चों के लिए समय निकाला है, यही वजह है कि BAPS स्वामीनारायण संस्था विश्‍वभर में फैली होने के बावजूद पूरी तरह आध्‍यात्मिक है.‘बाल स्नेही’ – जिस तरह प्रमुख स्वामीजी महाराज बच्चों की देखभाल और स्‍नेह करते थे, उसी तरह महंत स्वामी महाराज ने भी देखभाल की है. बाल स्नेही उद्यान प्रमुख स्वामीजी महाराज और महंत स्वामीजी महाराज को शत शत नमन करने के उद्देश्‍य से बनाया गया है.संदेश देती पशुओं की मूर्तियां बाल नगरी के चारों कोनों में बच्चों के साथ जानवरों की बड़ी मूर्तियां आगंतुकों का स्वागत करेंगी और संदेश देंगी. गैंडा यानी ‘मजबूत बनो लेकिन शांत रहो’, हाथी: ‘शक्ति प्राप्त करें लेकिन शाकाहार को बनाए रखें’, जिराफ: ‘अपने विचारों को महान ऊंचाइयों पर ले जाएं.’ शेर: ‘अपनी आंतरिक शक्ति का पता लगाएं और साहसी बनें.’प्रेरक विभूतियांयहां पर प्रेरक विभूतियों की मूर्तियां होंगी. भारतीय विरासत से आठ की मूर्तियां बाल नगरी को सुशोभित करेंगी. ध्रुव, प्रह्लाद, भरत, श्रवण, मीराबाई, शबरी, गार्गी और सीताजी आगंतुकों को ईश्वर-केंद्रित, वीर, लक्ष्य-उन्मुख, अधीन, भक्तिमय, ज्ञान देने के लिए प्रेरित करेंगी. प्रत्येक मूर्ति का वजन 1,200 से 1,500 किलोग्राम के बीच है. एक कहानी पर आधारित ‘शेरूज ग्रेट एस्केप’ नाम की प्रदर्शनी लगाई गई है. इस प्रदर्शनी का मुख्य संदेश गुरु में विश्वास विकसित करना, अपने को खोजना है. सच्ची शक्ति और अपने असली रूप को पहचानो.सुवर्ण का सागरप्रमुख स्वामी महाराज अक्सर सफलता के बारे में एक संदेश साझा करते थे, ‘प्रार्थना + परिश्रम = सफलता.’ यदि कोई किसी भी क्षेत्र में किसी भी कार्य में निरंतर प्रार्थनाऔर पूर्ण प्रयास करता है, उन्हें सफलता सुनिश्चित है। ये कहानी ‘स्वर्ण द गोल्ड फिश’ नामक प्रदर्शनी में बताई जाएगी.जीवन का संदेश देते बोर्डप्रत्येक प्रदर्शनी के बाहर संदेश बोर्ड लगाए गए हैं. वे इस प्रकार हैं:.कड़ी मेहनत के चैंपियंस: यहां, प्रेरक प्रमुख के उदाहरण हैं, जिन्होंने कड़ी मेहनत की हैउनके जीवन में प्रगति और दुनिया को बेहतर बनाने के लिए काम दिखाया जाएगा.. ‘थैंक यू टू माय डियर पेरेंट्स’: यहां, ऋणग्रस्तता के बारे में प्रेरक संदेश है कि अपने माता-पिता के प्रति है हम आभार कैसे व्यक्त कर सकते हैं, इसे प्रस्तुत किया जाएगा. ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|Tags: Gujrat news

बीएपीएस स्‍वामी नारायण संस्‍था- अध्‍यात्‍म से मैनेजमेंट लीडर बनते बच्‍चे
गुजरात चुनाव: भाजपा का संकल्प पत्र जारी, 20 लाख रोजगार, UCC व स्कूटी का वादा
News18 | 11 hours ago | 26-11-2022 | 09:00 pm
News18
11 hours ago | 26-11-2022 | 09:00 pm

गांधीनगर: गुजरात विधानसभा चुनाव 2022 के लिए भारतीय जनता पार्टी ने गांधीनगर में अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया है, जिसे वह ‘संकल्प पत्र’ कहती है. भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, राज्य के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सीआर पाटिल ने पार्टी का संकल्प पत्र जारी किया. बीजेपी ने अपने घोषणा पत्र में गुजरात की जनता से 5 साल में 20 लाख रोजगार, 1 लाख महिलाओं को रोजगार, दो सी फूड पार्क की स्थापना, सिंचाई नेटवर्क के विस्तार के लिए 25 हजार करोड़ का बजट, छात्राओं को इलेक्ट्रिक स्कूटी देने का वादा किया है. जेपी नड्डा ने कहा कि हम आतंकवादी संगठनों और भारत विरोधी ताकतों के स्लीपर सेल से संभावित खतरों की पहचान करने और उन्हें खत्म करने के लिए एक एंटी-रेडिकलाइजेशन सेल बनाएंगे. गुजरात में समान नागरिक संहिता समिति की सिफारिशों का पूर्ण कार्यान्वयन सुनिश्चित करेंगे.CM Yogi Adityanath एक बार फिर गुजरात दौरे पर, जानिए मिनट टू मिनट अपडेटभाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने गुजरात के लिए पार्टी का संकल्प पत्र जारी करते हुए कहा, ‘हम सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान से संबंधित कानून भी बनाएंगे. य​ह कानून सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने और निजी संपत्ति पर हमला करने वाले असामाजिक तत्वों से वसूली के संबंध में होगा.’ उन्होंने कहा कि गुजरात की प्रगति के लिए, हम राज्य को प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का गंतव्य बनाकर गुजरात की अर्थव्यवस्था को 1 ट्रिलियन अर्थव्यवस्था के बराबर बनाएंगे. सीआर पाटिल ने बताया कि इस संकल्प पत्र को बनाने में गुजरात के 1 करोड़ से ज्यादा लोगों ने अपनी राय दी. उन्होंने कहा, ‘इसके लिए एक वाट्सएप नंबर जारी किया गया था. कॉलेज के बच्चों, गुजरात के अलग-अलग क्षेत्रों में रहले वाले नागरिकों, किसानों और शहरों में रहने वाले लोगों की राय लेकर भाजपा ने अपना संकल्प पत्र तैयार किया है.’कांग्रेस अपना घोषणा पत्र पहले जारी कर चुकी है, जिसे वह ‘वचन पत्र’ कहती है. उसने अपने मेनिफेस्टो में नरेंद्र मोदी स्टेडियम का नाम बदलने का वादा भी किया है. इसके अलावा 10 लाख सरकारी नौकरियां, किसानों की कर्ज माफी और हर महीने 300 यूनिट तक फ्री बिजली देने का वादा किया है. पार्टी ने बिलकिस बानो गैंगरेप केस के दोषियों की रिहाई रद्द कर उन्हें फिर जेल भेजने की बात भी कही है. एक न्यूज चैनल से बात करते हुए पार्टी नेता मधुसूदन मिस्त्री ने तो यह तक कह दिया कि नरेंद्र मोदी कभी अहमद पटेल नहीं बन सकते. उन्होंने कहा था कि इस चुनाव में उन्हें औकात दिख जाएगी. आपको बता दें कि 182 विधानसभा सीटों के लिए गुजरात में पहले चरण की वोटिंग 1 दिसंबर को और दूसरे चरण की वोटिंग 5 दिसंबर को होगी. नतीजे 8 दिसंबर को आएंगे.ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|Tags: Assembly Elections 2022, BJP Manifesto, Gujarat Assembly Election

गुजरात चुनाव: भाजपा का संकल्प पत्र जारी, 20 लाख रोजगार, UCC व स्कूटी का वादा
  • Gujarat Election 2022: गुजरात चुनाव के लिए भाजपा ने जारी किया संकल्प पत्र, जानें लोगों से क्या किए वादे
  • Jagran

    अहमदाबाद, आनलाइन डेस्क। गुजरात विधानसभा चुनाव (Gujarat Election 2022) के पहले चरण के मतदान में अब कुछ ही दिन बाकी है और सभी प्रमुख पार्टियां अपनी-अपनी जीत के दावे अभी से करने लगी है। भाजपा, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी राज्य में जोर शोर से चुनाव प्रचार कर रही है। इस बीच आज भाजपा ने अपना संकल्प पत्र (Manifesto) जारी कर दिया है।भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) और गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल गांधीनगर के अपने प्रदेश कार्यालय में गुजरात के लिए पार्टी का संकल्प पत्र (घोषणा पत्र) जारी किया। इस दौरान गुजरात भाजपा अध्यक्ष सीआर पाटिल समेत पार्टी के कई बड़े नेता भी वहां मौजूद रहे।क्रिकेटर रवींद्र जडेजा ने भाजपा प्रत्याशी रीवाबा के समर्थन में निकाला रोड शो, जामनगर में किया चुनाव प्रचार यह भी पढ़ें भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि गुजरात की प्रगति के लिए हम राज्य को प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का गढ़ बनाकर गुजरात की अर्थव्यवस्था को 1 ट्रिलियन के बराबर बनाएंगे। नड्डा ने कहा किहम सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान से संबंधित कानून भी बनाएंगे। सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने और निजी संपत्ति पर हमला करने वाले असामाजिक तत्वों से वसूली के संबंध में यह कानून बनाया जाएगा।बता दें कि गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा ने एक बड़ा दांव खेला है। गुजरात कैबिनेट ने मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल की अध्यक्षता में राज्य में समान नागरिकता संहिता लागू करने का ऐतिहासिक फैसला लिया है।

  • Gujarat Election 2022: असदुद्दीन ओवैसी ने पार्टी को वोट कटवा बताने पर जताई आपत्ति, भाजपा पर साधा निशाना
  • Jagran

    अहमदाबाद, जेएनएन। आल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने इस बात से इनकार किया है कि गुजरात विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी की भूमिका कांग्रेस के वोट बैंक में सेंध लगाने की होगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस और उसके नेता हमारी पार्टी पर ऐसा आरोप लगाते हैं तो वे अपनी कमियों को छिपाने के लिए ऐसा कर रहे हैं।AIMIM के भुज व मांडवी से चुनाव लड रहे उम्मीदवार शकील अहमद शमा व मौहम्मद इकबाल मांजलिया के प्रचार के लिए आए ओवैसी ने कहा कि गुजरात में भाजपा 27 साल से सत्ता में है। इसके बावजूद गुजरात चुनाव में मुस्लिम विरोधी माहौल बनाकर ध्रूवीकरण करने का प्रयास कर रही है। समान नागरिक संहिता, महरौली हत्याकांड जैसे मुद्दों को राज्य के चुनाव में उठाया जा रहा है।कच्छ की दो सीट भुज व मांडवी में एआईएमआईएम ने अपने प्रत्याशी उतारे हैं, ओवैसी ने अपनी पार्टी को वोट कटवा बताने पर ऐतराज जताते हुए कहा कि उनकी पार्टी की भूमिका कांग्रेस के वोट बैंक में सेंध लगाने की नहीं है। कांग्रेस व उसके नेता हमारी पार्टी पर ऐसा आरोप लगाते हैं तो वे अपनी कमियों को छिपाने के लिए ऐसा कर रहे हैं।Gujarat Chunav 2022: भाजपा सरकार से तंग आ चुके लोग, आएगा बदलाव, AAP सीएम प्रत्याशी का तंज यह भी पढ़ें ओवैसी ने सवाल उठाया कि बीते 27 साल से कांग्रेस लगातार भाजपा से हारती आ रही है, कांग्रेस को किसी ने भी भाजपा को हराने से नहीं रोका फिर इस चुनाव में ऐसी बात कैसे हो सकती है। ओवैसी ने कहा कि कांग्रेस ने आम आदमी पार्टी (आप) और एआईएमआईएम दोनों पर भाजपा की "बी-टीम" होने का आरोप लगाया है, कांग्रेस को पहले इस सवाल का जवाब देना चाहिए।क्रिकेटर रवींद्र जडेजा ने भाजपा प्रत्याशी रीवाबा के समर्थन में निकाला रोड शो, जामनगर में किया चुनाव प्रचार यह भी पढ़ें ओवैसी ने गुजरात विधानसभा की 182 सीटों में से केवल 13 सीटों पर चुनाव लड़ने पर कहा कि मैं यह स्पष्ट कर दूं कि हम यहां किसी के वोट बैंक में सेंध लगाने के लिए नहीं हैं। हम यहां भाजपा के खिलाफ लड़ने के लिए हैं।ओवैसी ने शनिवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की इस बात के लिए आलोचना की कि भाजपा ने 2002 में गुजरात में दंगाइयों को सबक सिखाया। ओवैसी ने कहा कि वह सत्ता के नशे में हैं। हैदराबाद से सांसद ओवैसी ने अमित शाह पर पलटवार करने के लिए ट्विटर का सहारा लिया। ओवैसी ने ट्वीट कर कहा, 'सत्ता के नशे में चूर, भारत के गृह मंत्री ने कहा कि हमने 2002 में सबक सिखाया।' उन्होंने शाह को याद दिलाया कि सत्ता स्थायी नहीं होती है।Gujarat Election 2022: गुजरात चुनाव के लिए भाजपा ने जारी किया संकल्प पत्र, जानें लोगों से क्या किए वादे यह भी पढ़ें ओवैसी आगे लिखते हैं, 'सत्ता में आने के बाद कुछ लोग भूल जाते हैं कि सत्ता हमेशा किसी के पास नहीं रहती है। उन्होंने 2002 में जो पाठ पढ़ाया उसका सबक क्या नरोडा पाटिया को माना जाए, गुलबर्ग हत्यांकांड या बिल्किस बानु सामूहिक दुष्कर्म को। ओवैसी ने भाजपा नेता के बयान कि 2002 में गुजरात के दंगाइयों को सबक सिखाया और राज्य में स्थायी शांति स्थापित की की आलोचना की।भाजपा प्रत्याशी जवाहर चावड़ा ने भारत जोड़ो यात्रा को बताया बेकार, कहा– अनुच्छेद 370 हटने से सारा भारत हुआ एक यह भी पढ़ें यह भी पढ़ें-खास बातचीतः फियो डीजी अजय सहाय के अनुसार भारत अपनी शिपिंग लाइन खड़ी करे तो हर साल 25 अरब डॉलर रेमिटेंस बचेगायह भी पढ़ें-Fact Check: कलमा पढ़ रहे इन लोगों का वीडियो फीफा वर्ल्ड कप 2022 का नहीं है

  • Gujarat Chunav 2022: भाजपा सरकार से तंग आ चुके लोग, आएगा बदलाव, AAP सीएम प्रत्याशी का तंज
  • Jagran

    खंभालिया (गुजरात), एजेंसी। Gujarat Vidhan Sabha Election 2022: गुजरात विधानसभा चुनाव का आगाज हो चुका हैं और सभी पार्टियां चुनाव प्रचार में जुट गई है। इस चुनावी मौसम में बयानबाजी से नेताओं का एक-दूसरे पर हमला जारी है। इस बीच आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार इसुदान गढ़वी ने शनिवार को भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा है।इसुदान गढ़वी ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा है कि गुजरात के लोगों का सत्तारूढ़ पार्टी से मोहभंग हो चुका है। उन्होंने दावा किया है कि भाजपा पार्टी लगभग 25 वर्ष से लगातार सत्ता में है। पत्रकार से नेता बने इसुदान ने कहा कि गुजरात के लोग विधानसभा चुनावों में अपने अगले मुख्यमंत्री के रूप में एक विश्वसनीय नेता के लिए मतदान करेंगे।पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, 'मोदी देश के प्रधानमंत्री हैं और वह 2024 तक केंद्र में सत्ता में रहेंगे, लेकिन गुजरात में विधानसभा चुनाव राज्य सरकार चुनने के लिए हो रहे हैं। गुजरात के लोग भाजपा और कांग्रेस के राज्य नेताओं से तंग आ चुके हैं। गुजरात में भाजपा और कांग्रेस पार्टी में कोई भी जननेता नहीं है, जबकि मुझे राज्य के हर हिस्से से समर्थन मिल रहा है।'गुजरात विधानसभा चुनाव में कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे की भी एंट्री, आज सूरत और नर्मदा में करेंगे जनसभाक्रिकेटर रवींद्र जडेजा ने भाजपा प्रत्याशी रीवाबा के समर्थन में निकाला रोड शो, जामनगर में किया चुनाव प्रचार यह भी पढ़ें गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर चुनावी जानकारों का मानना है कि 40 वर्षीय इसुदान गढ़वी, सामाजिक समीकरण उनके लिए बहुत अनुकूल नहीं है। उन्होंने कहा कि आप का चुनाव प्रचार उनके निर्वाचन क्षेत्र या गुजरात में काम नहीं करेगी।इसुदान गढ़वी ने दावा करते हुए कहा है कि आप ने राज्य के लगभग 52,000 बूथों में से प्रत्येक में 11-15 व्यक्तियों की अपनी समितियां स्थापित की हैं। उन्होंने कहा कि आप पार्टी भाजपा और कांग्रेस द्व्रारा अपनाई गई राजनीति के पुराने पैटर्न में विश्वास नहीं करते हैं। इसका असर 8 दिसंबर को होने वाले चुनावी नतीजों में देखने को मिल जाएगा। गढ़वी ने ये भी दावा किया है कि मौजूदा वोट शेयर अनुमान के संदर्भ में आप पार्टी भाजपा से आगे है, जबकि कांग्रेस बहुच पीछे चल रही है।Gujarat Election 2022: गुजरात चुनाव के लिए भाजपा ने जारी किया संकल्प पत्र, जानें लोगों से क्या किए वादे यह भी पढ़ें Gujarat: आप के सीएम उम्मीदवार ने कांग्रेस को बताया भाजपा की B टीम, आखिर इसुदन गढ़वी ने क्यों लगाया यह आरोप?अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) से आने वाले गढ़वी ने खुद को 'किसान का बेटा' बताया और कहा कि आप के 'बिजली, पानी और दाम' के तीन वादों ने उसे जीत दिलाई है। उन्होंने दावा किया कि आप ने राज्य के लोगों में उम्मीद जगाई है और वे इसे राज्य में शासन करने का मौका देंगे। बता दें कि गढ़वी की विधानसभा सीट खंभालिया क्षेत्र में आती है, जहां पहले चरण में 1 दिसंबर को दक्षिण गुजरात और कच्छ के साथ मतदान होगा। वहीं राज्य के बाकी हिस्सों में 5 दिसंबर को मतदान होगा और मतगणना 8 दिसंबर को होगी।भाजपा प्रत्याशी जवाहर चावड़ा ने भारत जोड़ो यात्रा को बताया बेकार, कहा– अनुच्छेद 370 हटने से सारा भारत हुआ एक यह भी पढ़ें क्रिकेटर रवींद्र जडेजा ने भाजपा प्रत्याशी रीवाबा के समर्थन में निकाला रोड शो, जामनगर में किया चुनाव प्रचार

  • Gujarat Election 2022: सत्‍येंद्र जैन के वीडियो पर इसुदान गढ़वी बोले- ये भाजपा की AAP को बदनाम करने की साजिश
  • Jagran

    अहमदाबाद, एएनआई। गुजरात में आम आदमी पार्टी (AAP) के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार इसुदान गढ़वी ने दिल्ली के तिहाड़ जेल से सामने आए मंत्री सत्येंद्र जैन के सीसीटीवी फुटेज को भाजपा की रणनीति करार दिया है। गढ़वी ने कहा कि यह भाजपा की सोची-समझी साजिश है, जो 8 दिसंबर तक चलेगी। ये पूरी साजिश गुजरात चुनावों में फायदा उठाने के लिए की जा रही है।आम आदमी पार्टी इस बार गुजरात विधानसभा चुनाव 2022 के लिए पूरा जोर लगा रही है। सभी पार्टियां जमकर चुनाव प्रचार कर रही हैं। इस बीच पार्टियों के बीच अरोप-प्रत्यारोप का दौर भी जारी है। ऐसे में जब गढ़वी से पूछा गया कि आप पार्टी के मंत्री जेल के भीतर वीआइपी ट्रीटमेंट पा रहे हैं, तो इस पर उन्होंने कहा कि ये सब भाजपा की रणनीति का हिस्सा है। अरविंद केजरीवाल और अन्य को अपमान करने की साजिश है। कोई बीमार है, उसका मेडिकल सर्टिफिकेट है। ऐसे में आप कैसे सवाल उठा सकते हैं। एक बात और सोचने वाली है कि जेल में सीसीटीवी क्यों लगाए गए हैं?आम आदमी पार्टी दावा कर रही है कि इस बार राज्य में उन्हीं की सरकार सत्ता में आएगी और इसुदान गढ़वी ही गुजरात के अगले मुख्यमंत्री होंगे। इधर, भाजपा कह रही है कि इसुदान गढ़वी खुद अपनी सीट नहीं बचा पाएंगे। गढ़वी खंभालिया विधानसभा सीट से चुनाव मैदान में उतरे हैं। भाजपा ने यहां से मूलुभाई बेरा को टिकट दी है। मूलुभाई ने कहा, जब मैं चुनाव हार भी जाता हूं, तब भी यहां लोगों के बीच रहता हूं। आप ने इस निर्वाचन क्षेत्र से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार को नामित किया है, लेकिन खंभालिया के लोग जानते हैं कि आप राज्य में 4 सीटें भी नहीं जीतने जा रही है, उनके पास मुख्यमंत्री कैसे होगा?ये भी पढ़ें: 26 नवंबर को 9 सैटेलाइट की लांचिंग, विशेषज्ञों के अनुसार खेती-खनन से लेकर पर्यावरण तक को बचाने में मिलेगी मदद

  • Gujarat: आप के सीएम उम्मीदवार ने कांग्रेस को बताया भाजपा की B टीम, आखिर इसुदन गढ़वी ने क्यों लगाया यह आरोप?
  • Jagran

    नई दिल्ली, एजेंसी। गुजरात विधानसभा के चुनावी रण में जीत हासिल करने के लिए सभी राजनीतिक पार्टियां जोर शोर से चुनाव प्रचार कर रही है।पंजाब विधानसभा में मिली जबरदस्त जीत के बाद आप की कोशिश है कि गुजरात विधानसभा में भी आम आदमी पार्टी की सरकार बने। आम आदमी पार्टी जोर-शोर से गुजरात के अलग जिलों में चुनाव प्रचार में जुटी है। शुक्रवार को गुजरात के द्वारका में आप के नेता इसुदान गढ़वी ने कहा कि अगर गुजरात विधानसभा में कांग्रेस, चुनाव नहीं लड़ रही होती तो आप पंजाब की तरह गुजरात में भी आम आदमी पार्टी की सरकार पूर्ण बहुमत से सरकार बना लेती।कांग्रेस है भाजपाकी 'बी' टीम: इसुदन गढ़वीसमाचार एजेंसी एएनआइ से बातचीत करते हुए आम आदमी पार्टी के लिए सीएम के उम्मीदवार इसुदन गढ़वी (Isudan Gadhvi)ने कांग्रेस पर हमला किया और कांग्रेस को सत्तारूढ़ भाजपा की 'बी टीम' करार दिया। गढ़वी ने आगे उम्मीद जताई कि आगामी विधानसभा चुनाव में आम आदमी की पार्टी पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाएगी। बता दें कि कुछ दिनों पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री और आप सुप्रिमो अरविंद केजरीवाल ने एक वीडियो में कहा था कि गुजरात की जनता को आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को वोट नहीं देना चाहिए।Gujarat Assembly Elections के पहले चरण में 21 प्रतिशत दागदार उम्मीदवार, आंकड़ों से जानिए; दलों की स्थिति यह भी पढ़ें गढ़वी ने कांग्रेस पर सवाल उठाते हुए कहा कि पिछले आठ सालों में कांग्रेस के विधायकों सहित 65 बड़े नेता, भाजपा में शामिल हुए। तो बताएं कि कांग्रेस किसकी 'बी' टीम है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा 'अगर आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा को 70 और कांग्रेस को 10-15 सीटें मिलती हैं, तो मुमकिन है कि कांग्रेस के विधायक भाजपा में शामिल होकर सरकार बनाने की स्थिति में आ जाएंगे।'यह भी पढ़ें:Gujarat Election 2022: पहले चरण में आधे उम्मीदवार 5वीं से 12वीं तक पढ़े, 37 अनपढ़अरविंद केजरीवाल को बदनाम करने की हो रही कोशिश: इसुदन गढ़वीगौरतलब है कि तिहाड़ जेल से आप नेता और दिल्ली के मंत्री सत्येंद्र जैन के सीसीटीवी फुटेज पर गढ़वी ने कहा, 'यह भाजपा की योजना है, यह एक साजिश है, जो 8 दिसंबर तक चलती रहेगी। यह सभी साजिशें दिल्ली के मुख्यमंत्री को अपमान करने के लिए है। उन्होंने आगे कहा कि अरविंद केजरीवाल पर सभी को भरोसा है। सभी को उम्मीद है कि आप गुजरात में बेहतर बिजली, स्वास्थ्य और शिक्षा सुविधाएं मुहैया कराएगी। उन्होंने कहा कि लोग भाजपा और कांग्रेस से तंग आ चुके हैं।यह भी पढ़ें:Gujarat Election 2022: पहले चरण में केवल 9 फीसद महिला उम्मीदवार मैदान में, 2017 में इससे भी कम को मिला था टिकट

गृह मंत्री शाह के '2002 में सबक सिखाने' वाले बयान पर भड़के ओवैसी...किया पलटवार
News18 | 16 hours ago | 26-11-2022 | 04:00 pm
News18
16 hours ago | 26-11-2022 | 04:00 pm

अहमदाबाद: गुजरात में चुनाव प्रचार के दौरान दिए गए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के एक बयान पर विवाद हो रहा है. दरअसल, शुक्रवार को गुजरात में एक जनसभा के दौरान उन्होंने कहा कि अशांति फैलाने वालों को 2002 में सबक सिखाया गया था और तब जाकर राज्य में ‘स्थाई शांति’ कायम हुई. अमित शाह के इस बयान पर बहुत सारी प्रतिक्रियाएं आ रही हैं. ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) प्रमुख और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने भी केंद्रीय गृह मंत्री के ‘2002 में दंगाइयों को सबक सिखाने’ वाले बयान पर तीखी टिप्पणी की है.अहमदाबाद के वेजालपुर के जुहापुरा में एक जनसभा को संबोधित करते हुए ओवैसी ने कहा, ‘आपने हमें क्या क्या सबक सिखाया अमित शाह? बिलकिस के बलात्कारियों को छोड़ना सबक है? बिलकिस की 3 साल की बेटी को उसकी आंखों के सामने पटक कर मारने वालों को छोड़ देना सबक है? आपने हमें एहसान जाफरी और बेस्ट बेकरी जैसे तमाम सबक सिखाए. गृह मंत्री होते हुए अमित शाह कहते हैं कि उन्होंने हमें सबक सिखाए? क्या सबक सिखाए? दिल्ली में दंगे हुए.’ ओवैसी ने अपने भाषण में मुसलमानों के साथ भेदभाव होने की बात कही. वहीं कांग्रेस को भी घेरा और अरविंद केजरीवाल को ‘छोटा रिचार्ज’ कह दिया.#WATCH | I want to tell Union HM, the lesson you taught in 2002 was that Bilkis’ rapists will be freed by you, you’ll free the murderers of Bilkis’ 3-year-old daughter, Ahsan Jafri will be killed…which lessons of yours will we remember?: AIMIM chief Asaduddin Owaisi in Ahmedabad pic.twitter.com/2rvQCaGFNY— ANI (@ANI) November 25, 2022अमित शाह ने क्या कहा था?केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह 25 नवंबर को गुजरात के नाडियाड खेड़ा में भाषण दे रहे थे. न्यूज एजेंसी PTI की रिपोर्ट के मुताबिक अमित शाह ने अपने भाषण में कहा, ‘कांग्रेस ने गुजरात में सांप्रदायिक और जातीय दंगे भड़काए थे. कांग्रेस अलग-अलग समुदायों और जातियों के लोगों को आपस में लड़ने के लिए उकसाती थी.’ फिर उन्होंने गोधरा कांड और उसके बाद हुए दंगों का जिक्र किया, जिसमें बड़े पैमाने पर गुजरात के अलग-अलग इलाकों में हिंसा हुई थी. केंद्रीय गृह मंत्री शाह ने दावा किया, ‘गुजरात में 2002 में दंगे हुए, क्योंकि अपराधियों को कांग्रेस से लंबे समय तक मिले समर्थन की वजह से हिंसा की आदत हो गई थी.उन्होंने अपने भाषण में आगे कहा, ‘लेकिन 2002 में दंगाइयों को सबक सिखाने के बाद, इन तत्वों ने अपराध का रास्ता छोड़ दिया. फिर 2002 से 2022 तक हिंसा नहीं की. भारतीय जनता पार्टी ने सांप्रदायिक हिंसा में शामिल लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करके गुजरात में स्थाई शांति स्थापित की है.’ आपको बता दें कि गुजरात में विधानसभा की 182 सीटों के लिए आगामी 1 और 5 दिसंबर को दो चरणों में मतदान होना है. पहले चरण में 89 विधानसभा सीटों के लिए मतदान होगा, जबकि बाकी बची 93 विधानसभा सीटों के लिए दूसरे चरण में मतदान होगा. चुनाव परिणाम 8 दिसंबर को घोषित होंगे.ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|Tags: Assembly Elections 2022, Gujarat Assembly Election, Gujarat Election

गृह मंत्री शाह के '2002 में सबक सिखाने' वाले बयान पर भड़के ओवैसी...किया पलटवार
गुजरात में PM की सुरक्षा में सेंधमारी? NSG ने रैली स्थल के पास ढेर किया ड्रोन
News18 | 16 hours ago | 26-11-2022 | 04:00 pm
News18
16 hours ago | 26-11-2022 | 04:00 pm

अहमदाबाद: गुजरात पुलिस के सूत्रों ने CNN-News18 को बताया कि राज्य में चुनावी दौरे पर आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में सेंध लगने का मामला सामने आया है. यह रिपोर्ट चुनावी राज्य में राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) के जवानों द्वारा एक अनधिकृत ड्रोन को कथित तौर पर मार गिराए जाने के बाद आई है. इस ड्रोन को बावला में पीएम के रैली स्थल के पास देखा गया था. सूत्रों ने बताया कि मामले की जांच राज्य और केंद्र की एजेंसियों ने शुरू कर दी है. उन्होंने कहा कि ड्रोन में कुछ भी नहीं मिला, लेकिन पुलिस को यह पता लगाना होगा कि इसे क्यों उड़ाया गया था. सूत्रों ने बताया कि घटना गुरुवार शाम करीब 4:30 बजे हुई और एक व्यक्ति को हिरासत में लिया गया है.प्रधानमंत्री मोदी गुजरात में भाजपा के प्रचार अभियान का नेतृत्व कर रहे हैं. उन्होंने गुरुवार को सुबह 11 बजे से पालनपुर, मोडासा, दहेगाम और बावला (अहमदाबाद) में 4 रैलियों को संबोधित किया. सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के स्टार प्रचारक, पीएम मोदी ने मंगलवार को 1 दिन के ब्रेक के बाद बुधवार को दाहोद, मेहसाणा, वडोदरा और भावनगर में रैलियों को संबोधित किया था. इस साल 5 जनवरी को, पंजाब में एक फ्लाईओवर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काफिले को काफी दे रुकना पड़ा था. कुछ प्रदर्शनकारियों द्वारा कथित रूप से पीएम का रूट अवरुद्ध किए जाने के बाद चिंतित सुरक्षा अधिकारियों की तस्वीरें वायरल हुईं.वास्तव में, प्रधानमंत्री को पंजाब के फिरोजपुर में एक रैली को संबोधित करने हेलीकॉप्टर से जाना था, लेकिन खराब मौसम के कारण उन्हें सड़क मार्ग से यात्रा करनी पड़ी थी. इस दौरान कुछ प्रदर्शनकारी उनके काफिले के रास्ते में आ गए थे. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने मामले को बहुत गंभीरता से लेते हुए पंजाब के डीजीपी को नोटिस जारी किया था. पीएम मोदी की सुरक्षा में इस सेंधमारी की जांच के लिए नियुक्त सुप्रीम कोर्ट की एक समिति ने फिरोजपुर एसएसपी पर पर्याप्त सुरक्षाबल होने के बावजूद अपने कर्तव्य का निर्वहन करने में विफल रहने का आरोप लगाया. दरअसल, ये प्रदर्शनकारी कृषि कानूनों को लेकर पीएम मोदी के दौरे का विरोध कर रहे थे, जिन्हें केंद्र सरकार ने पहले ही वापस ले लिया था.ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|Tags: Gujarat Assembly Election, NSG, PM Modi

गुजरात में PM की सुरक्षा में सेंधमारी? NSG ने रैली स्थल के पास ढेर किया ड्रोन
भाजपा प्रत्याशी जवाहर चावड़ा ने भारत जोड़ो यात्रा को बताया बेकार, कहा– अनुच्छेद 370 हटने से सारा भारत हुआ एक
Jagran | 20 hours ago | 26-11-2022 | 12:02 pm
Jagran
20 hours ago | 26-11-2022 | 12:02 pm

गुजरात, एजेंसी। जवाहर चावड़ा ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि भारत जोड़ों यात्रा बेकार है। बता दें कि जवाहर चावड़ा, माणावादर से बीजेपी उम्मीदवार हैं जिन्होंने कांग्रेस छोड़कर 2019 में बीजेपी ज्वाइन की थी।जवाहर चावड़ा ने कहा, भारत जोड़ा? मुझे लगता है कि यह बेकार है। धारा 370 हटने के बाद पूरा भारत एक हो गया। कांग्रेस जीतना नहीं चाहती, पार्टी में रहते हुए मैंने यही महसूस किया।'क्रिकेटर रवींद्र जडेजा ने भाजपा प्रत्याशी रीवाबा के समर्थन में निकाला रोड शो, जामनगर में किया चुनाव प्रचार यह भी पढ़ें उन्होंने आगे कहा, 'पिछले 32 सालों से मैं यहां हूं और लगभग 5 चुनाव जीते हैं। आम आदमी पार्टी तस्वीर में कहीं नहीं है। कांग्रेस अपने स्तर पर पूरी कोशिश कर रही है। मेरे लिए इस बार जीतना आसान है क्योंकि मैंने साबित कर दिया है कि ताकत क्या कर सकती है और मैं लोगों की मदद कैसे कर सकता हूं।'

भाजपा प्रत्याशी जवाहर चावड़ा ने भारत जोड़ो यात्रा को बताया बेकार, कहा– अनुच्छेद 370 हटने से सारा भारत हुआ एक
गुजरात में लव जिहाद के पहले मुकदमे का कोर्ट से बाहर निपटारा, समझौते के बाद हाईकोर्ट ने रद की एफआइआर
Jagran | 22 hours ago | 26-11-2022 | 09:31 am
Jagran
22 hours ago | 26-11-2022 | 09:31 am

राज्य ब्यूरो, अहमदाबाद:गुजरात में धार्मिक स्वतंत्रता कानून लागू होने के बाद जून 2021 में वडोदरा शहर के गौत्री पुलिस थाने में दर्ज लव जिहाद के पहले मुकदमे का अदालत के बाहर निपटारा हो गया। आपसी समझौते के बाद गुजरात हाई कोर्ट आरोपितों के खिलाफ एफआइआर को रद कर दिया। गुजरात हाई कोर्ट के जस्टिस निरल मेहता की एकल पीठ ने समीर कुरैशी और पांच अन्य के खिलाफ प्रथम सूचना रिपोर्ट को रद कर दिया।यह भी पढ़े:खास बातचीतः फियो डीजी अजय सहाय के अनुसार भारत अपनी शिपिंग लाइन खड़ी करे तो हर साल 25 अरब डॉलर रेमिटेंस बचेगाकुरैशी के खिलाफ प्राथमिकी को खारिज करते हुए अदालत ने कहा, दोनों पक्षों के बीच एक सौहार्दपूर्ण समझौता हो गया है और वे (शिकायतकर्ता और आरोपित) साथ रह रहे हैं। मामले को देखते हुए आपराधिक कार्यवाही को आगे जारी रखने से उनका भविष्य खतरे में पड़ जाएगा। अदालत ने उस समझौते को स्वीकार कर यह फैसला सुनाया। उल्लेखनीय है कि समीर ने हाई कोर्ट के समक्ष प्राथमिकी को रद करने के लिए याचिका दायर की थी। उसकी पत्नी दिव्याबेन ने अदालत को बताया कि इस मामले में लव जिहाद का तथ्य पुलिस ने जोड़ दिया था। उसके पति पर लगे आरोप गलत थे और उसने कभी इस तरह के आरोप नहीं लगाए। दिव्या ने अदालत को बताया कि उसे मतांतरण के लिए मजबूर नहीं किया गया था।Gujarat Election: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा- मोदी सीएम बने तो दंगा समाप्त, पीएम बने तो आतंकी हमले बंद यह भी पढ़ें सरकारी वकील अनिल देसाई ने बताया कि अपने पति के खिलाफ शिकायत करने के बाद से ही दिव्याबेन ने अपना बयान बदलना शुरू कर दिया था। इसके बाद दिव्या ने शपथपत्र दायर कर कहा था कि वह समीर की जमानत अर्जी का समर्थन करती है और उसकी जमानत के खिलाफ नहीं है। हालांकि मामले को देखते हुए अदालत ने उस शपथपत्र को स्वीकार नहीं कर जमानत अर्जी को टाल दिया था।Gujarat Election 2022: असदुद्दीन ओवैसी ने पार्टी को वोट कटवा बताने पर जताई आपत्ति, भाजपा पर साधा निशाना यह भी पढ़ें मामले में तत्कालीन पुलिस उपायुक्त जयराजसिंह वाला ने बताया कि दिव्या ने आरोप लगाया था कि समीर ने अपना धर्म छिपाया था, उसने खुद को एक ईसाई बताकर उससे दोस्ती की थी। उनकी तस्वीरों का दुरुपयोग करते हुए उसने ब्लैकमेल किया और कई बार उसके साथ दुष्कर्म किया। उसने आरोप लगाया है कि उसे शादी करने के लिए मजबूर किया गया था और बाद में उसने और उसके परिवार ने उसे मतांतरण के लिए मजबूर किया। दिव्या ने यह भी बताया था कि समीर के परिवार के सदस्य उसे बुर्का पहनने के लिए मजबूर कर रहे थे, दिव्या के बयान बदल लेने से अब मुकदमे का निपटाराकरदियागया।Gujarat Chunav 2022: भाजपा सरकार से तंग आ चुके लोग, आएगा बदलाव, AAP सीएम प्रत्याशी का तंज यह भी पढ़ें यह भी पढ़े:Fact Check: हिंदू लड़की के रोजा रखने पर मुस्लिम पति के पिटाई के दावे से वायरल तस्वीर पाकिस्तान की है

गुजरात में लव जिहाद के पहले मुकदमे का कोर्ट से बाहर निपटारा, समझौते के बाद हाईकोर्ट ने रद की एफआइआर
Gujarat Election: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा- मोदी सीएम बने तो दंगा समाप्त, पीएम बने तो आतंकी हमले बंद
Jagran | 22 hours ago | 26-11-2022 | 09:10 am
Jagran
22 hours ago | 26-11-2022 | 09:10 am

गिर सोमनाथ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री बने तो दंगे समाप्त हो गए और जब प्रधानमंत्री बने तो देश में आतंकी हमले बंद हो गये। इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमनाथ मंदिर में दर्शन कर पूजा अर्चना की। सीएम योगी लगातार 4 दिन से गुजरात विधानसभा चुनाव में भाजपा प्रत्याशियों के लिए जनसभाएं कर रहे हैं।शनिवार को मुख्यमंत्री योगी ने भगवान सोमनाथ के मंदिर में दर्शन व पूजा अर्चना के साथ ही चुनाव प्रचार का आरंभ किया। उन्होंने सोमनाथ, गरियाधार और सावरकुंडला में जनसभा की। मुख्यमंत्री ने यूपी की कानून व्यवस्था, समृद्ध गुजरात के नाम पर भाजपा प्रत्याशियों को जिताने की अपील की।गुजरात में लव जिहाद के पहले मुकदमे का कोर्ट से बाहर निपटारा, समझौते के बाद हाईकोर्ट ने रद की एफआइआर यह भी पढ़ें मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि सरदार पटेल की सबसे बड़ी प्रतिमा व डा. आंबेडकर के पंचतीर्थ को पीएम मोदी के नेतृत्व में भाजपा ने संवारा। पटेल जी सोमनाथ मंदिर का पुनरोद्धार करना चाहते थे, लेकिन मुस्लिम वोट बैंक के कारण कांग्रेस हिंदू आस्था को कभी सम्मान नहीं देना चाहती थी। कांग्रेस नहीं चाहती थी कि सोमनाथ मंदिर का पुनरोद्धार हो, लेकिन सरदार वल्लभ भाई पटेल की दृढ़ इच्छाशक्ति से यह संभव हुआ।कांग्रेस ने तत्कालीन राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद को यहां कार्यक्रम में आने से रोकने का प्रयास किया था। कांग्रेस बाबा साहेब को चुनाव हराने का भरसक प्रयास करती थी। 1990 में भगवान सोमनाथ का आशीर्वाद लेकर अयोध्या तक की रथयात्रा शुरू की गई थी। जो संकल्प भगवान सोमनाथ के चरणों में लिया गया था, भव्य राम मंदिर का निर्माण उसकी परिणीति है। लोग बोलते थे कि राम मंदिर बनेगा तो खून की नदियां बहेंगी, मैं कहता था कि मच्छर भी नहीं मरेगा।Gujarat Election 2022: असदुद्दीन ओवैसी ने पार्टी को वोट कटवा बताने पर जताई आपत्ति, भाजपा पर साधा निशाना यह भी पढ़ें उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत की विरासत को नई ऊंचाई तक पहुंचाने का कार्य हो रहा है। विरासत के सम्मान के साथ आजादी के लिए सर्वस्व न्योछावर करने वाले अमर शहीदों के प्रति देश कृतज्ञता ज्ञापित कर रहा है। सीएम योगी ने कहा कि दिल्ली से आम आदमी पार्टी का नमूना यहां आया है, वह आतंकवाद का हितैषी है, राम मंदिर का विरोध करता है। जब भारतीय सेना पाकिस्तान में सर्जिकल स्ट्राइक करती है तो वह वीर जवानों से सबूत मांगता है। पाकिस्तान कहता था कि भारत के सैनिकों ने हमारी कमर तोड़ दी, फिर भी आम आदमी पार्टी को सबूत चाहिए होता है।Gujarat Chunav 2022: भाजपा सरकार से तंग आ चुके लोग, आएगा बदलाव, AAP सीएम प्रत्याशी का तंज यह भी पढ़ें योगी ने डा. भीमराव आंबेडकर के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर कहा कि आज भारत के संविधान का दिवस है। 26 नवंबर 1949 को संविधान बनकर तैयार हुआ था। 26 जनवरी 1950 को भारत ने इसे अंगीकार किया। भारतीय संविधान के शिल्पी बाबा साहेब डॉ. भीमराव आंबेडकर के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करने व पीएम के आह्वान पर हर भारतवासी नागरिक कर्तव्यों के प्रति शपथ लेकर एक भारत, श्रेष्ठ भारत की कल्पना को साकार करेगा।क्रिकेटर रवींद्र जडेजा ने भाजपा प्रत्याशी रीवाबा के समर्थन में निकाला रोड शो, जामनगर में किया चुनाव प्रचार यह भी पढ़ें यह भी पढ़ें-बाजार में क्रेडिट कार्ड डेटा से सौ गुना महंगा बिकता है हेल्थ डेटायह भी पढ़ें-Fact Check : श्रद्धा हत्याकांड के नाम पर वायरल वीडियो में दिख रहे शख्स की पहचान आई सामने, जानें वायरल पोस्ट की सच

Gujarat Election: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा- मोदी सीएम बने तो दंगा समाप्त, पीएम बने तो आतंकी हमले बंद
पटोला साड़ियों की 900 साल पुरानी विरासत को जिंदा रखा है गुजरात का यह परिवार, मोदी भी हैं मुरीद; जानें खासियत
Jagran | 1 day ago | 26-11-2022 | 07:00 am
Jagran
1 day ago | 26-11-2022 | 07:00 am

पाटन (गुजरात), एएनआइ। पटोला साड़ियों का प्राचीन शिल्प 11 वीं शताब्दी का है और पाटन में साल्वे परिवार पीढ़ियों से शिल्पकला की अपनी विरासत को आगे बढ़ा रहा है। सोलंकी वंश के राजा कुमारपाल के पास पटोला बुनकरों के लगभग 700 परिवार थे, जो जालना (महाराष्ट्र) से उत्तरी गुजरात के पाटन में बसने के लिए चले गए थे, और साल्वे उनमें से एक हैं।एएनआइ से बात करते हुए, परिवार के सबसे बड़े सदस्यों में से एक, 68 वर्षीय भरत साल्वे ने पटोला रेशम का इतिहास सुनाया। साल्वे ने कहा, 'यह पटोला करघा 11वीं शताब्दी में यहां आया था, जब राजा अपनी पूजा के लिए प्रतिदिन पटोला का उपयोग करना चाहता था। वह एक जैन था। हम अभी भी पारंपरिक प्राकृतिक रंगों का उपयोग करना जारी रखे हुए हैं।'Gujarat Chunav 2022: भाजपा सरकार से तंग आ चुके लोग, आएगा बदलाव, AAP सीएम प्रत्याशी का तंज यह भी पढ़ें साल्वे ने कहा, 'पटोला अन्य रेशम से अलग है। यह एक ऐसी साड़ी नहीं है, जिसमें मुद्रित डिजाइन होता है। इसके बजाय, यह इतनी बारीकी से बंधा और रंगा जाता है कि एक डिजाइन बन जाता है।'एक असली पटोला साड़ी 1.5 लाख रुपये से शुरू होती है और पेचीदगियों के आधार पर इसकी कीमत 6 लाख रुपये तक हो सकती है।क्रिकेटर रवींद्र जडेजा ने भाजपा प्रत्याशी रीवाबा के समर्थन में निकाला रोड शो, जामनगर में किया चुनाव प्रचार यह भी पढ़ें रोहित साल्वे, जो अपने सत्तर के दशक में हैं, ने कहा, 'साड़ी तैयार करने में लगभग छह महीने और लगभग 18-19 प्रक्रियाओं का समय लगता है। हम बेंगलुरु से कच्चा रेशम खरीदते हैं और फिर रेशम के धागों की ब्लीचिंग और नरमी सहित कई प्रक्रियाओं का पालन किया जाता है।' उन्होंने कहा कि साड़ी पर औसतन 4-5 रंगों का इस्तेमाल किया जाता है और साड़ी तैयार करने का समय रंगों की संख्या और डिजाइन की जटिलता पर निर्भर करता है।Gujarat Election 2022: गुजरात चुनाव के लिए भाजपा ने जारी किया संकल्प पत्र, जानें लोगों से क्या किए वादे यह भी पढ़ें रोहित साल्वे ने कहा, 'हमें एक साड़ी तैयार करने के लिए 4-5 श्रमिकों की आवश्यकता होती है और यह सब टीम वर्क के बारे में है। हम डिजाइनिंग और बांधने की प्रक्रिया पर काम करते हैं। बुनकर सदियों पुराने हैं और ऐसी कोई मशीन नहीं है जो इस मानव निर्मित श्रम की जगह ले सके।'ये भी पढ़ें:अमित शाह ने कहा- कांग्रेस शासन में होते थे बड़े पैमाने पर साम्प्रदायिक दंगे, भाजपा ने स्थापित की स्थायी शांतिभाजपा प्रत्याशी जवाहर चावड़ा ने भारत जोड़ो यात्रा को बताया बेकार, कहा– अनुच्छेद 370 हटने से सारा भारत हुआ एक यह भी पढ़ें 44 वर्षीय राहुल साल्वे ने आर्किटेक्ट बनने के आकर्षक करियर को छोड़कर परिवार की परंपरा को अपना लिया। वास्तव में, वह पटोला साड़ी बुनाई में शामिल 28वीं पीढ़ी हैं।राहुल ने एएनआई को बताया, 'हम पिछले 900 सालों से इस पेशे में हैं और मैं 28वीं पीढ़ी हूं। पेशे से एक वास्तुकार होने के बावजूद, मैंने पारिवारिक परंपरा को अपनाया और पिछले 22 वर्षों में इसमें महारत हासिल की है।'राहुल साल्वे ने कहा, 'हमने देखा है कि सिंगल और डबल इकत के बहुत सारे सस्ते संस्करण बाजार में उपलब्ध हैं और जीआई टैग के तहत बेचे जा रहे हैं। हम इसके झांसे में नहीं आए हैं और वास्तव में चिंतित नहीं हैं, लेकिन केवल एक चीज है जो हमें करनी है। लोगों को समझाएं कि असली पटोला साड़ियों को सस्ता नहीं किया जा सकता है।'साल्वे परिवार पटोला साड़ियों को ऑर्डर के आधार पर निर्यात करने के अवसरों को देखने से बहुत दूर है, भले ही उन्हें एनआरआई ऑर्डर मिलते हैं, जो पटोला हथकरघा में बहुत रुचि रखते हैं। राहुल साल्वे ने कहा, 'हमारी सरकार से कोई मौद्रिक मांग नहीं है, लेकिन हम उम्मीद करते हैं कि वे इन दुर्लभ कलाओं और कारीगरों को बढ़ावा देने के लिए अपनी पूरी कोशिश करेंगे।'Guarat Election: कुटियाना से कांग्रेस प्रत्याशी को जिताने कनाडा से आई बेटी, गांवों में कर रही है प्रचार यह भी पढ़ें गुजरात का प्रसिद्ध पटोला हथकरघा हाल ही में तब सुर्खियों में आया, जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इंडोनेशिया के बाली में G20 बैठक के दौरान साल्वे परिवार द्वारा बनाई गई इतालवी प्रधानमंत्री जियोर्जिया मेलोनी को पटोला साड़ी भेंट की।साल्वे ने कहा, 'जब प्रधानमंत्री ग्रामीण गुजरात को वैश्विक स्तर पर ले जाते हैं और हमारे शिल्प को विदेशी सरकारों के प्रमुखों को उपहार में देते हैं तो स्वाभाविक रूप से हमारे लिए बहुत गर्व का क्षण बन जाता है।'गुजरात चुनावों में पैसों की कमी से जूझ रहे कांग्रेसी उम्मीदवार, क्राउड फंडिंग के जरिए धनराशि जुटाने की कवायद यह भी पढ़ें 70 वर्षीय रोहित साल्वे से लेकर 37 वर्षीय सावन साल्वे तक, चार महिलाओं सहित साल्वे परिवार के नौ सदस्य इस दुर्लभ शिल्प को संरक्षित करने के लिए अपना प्रयास जारी रखते हैं।ये भी पढ़ें: बाजार में क्रेडिट कार्ड डेटा से सौ गुना महंगा बिकता है हेल्थ डेटाGujarat Election 2022: आप की सरकार बनी तो गुजरात में लागू करेंगे ‘पुरानी पेंशन योजना’: राघव चड्ढा यह भी पढ़ें ये भी पढ़ें:Fact Check: PM मोदी का साल 2016 का वीडियो G-20 सम्मेलन का बताकर किया गया शेयर

पटोला साड़ियों की 900 साल पुरानी विरासत को जिंदा रखा है गुजरात का यह परिवार, मोदी भी हैं मुरीद; जानें खासियत